ज़िन्दगी को ग़म का

ज़िन्दगी को ग़म का
तराना मिल ही जाता है।
             दिल को जलने का
              बाहना मिल ही जाता है।।
दर्दों-ग़म कभी
होते नहीं दर-ब-दर।
              उनको मेरे दिल में
              ठिकाना मिल ही जाता है।।
आतिश-ए-इश्क़
लिए जल जाती हैं समां।
              ऐसी समां को कोई
              परवाना मिल ही जाता है।।
**********************************
               -"अजनबी"-

Favorite Posts