रस्मे-दुनिया को निभाने का हक सबको है

*रस्मे-दुनिया को निभाने का हक सबको है*
*इस मुहब्बत को मिटाने का हक सबको है*

*हंसी मिलती है दौलत के कागजी फूलों से*
*वहां भी आंखों में कांटों की झलक सबको है*

*दिल बहलाते हैं वो दर्द भरे नगमों से*
*किसी को भूल न पाने की कसक सबको है*

*सात फेरे लेते हैं जो बड़े अरमानों से*
*उनमें एक-दूजे की वफादारी पे शक सबको है*

Favorite Posts