ख़ुद पर इक एहसान करें सपनों का सम्मान करें

ख़ुद पर इक एहसान करें
सपनों का सम्मान करें

कौन बुरा है अच्छा कौन
दोनों की पहचान करें

हर कोई अपना हो जाय
ख़ुदको यूँ आसान करें

गहरे उतरें सच जानें
क्यों केवल अनुमान करें

वक़्त सदाएँ देता है
पाँवों को तूफ़ान करें

ज़ेह्न में रक्खें दुनिया को
दिल को हिन्दुस्तान करें

ध्येय यही है पूजा का
आँसू को मुस्कान करें
             -सौरभ

Favorite Posts