इक पल में इक सदी का मज़ा हम से पूछिए

इक पल में इक सदी का मज़ा हम से पूछिए
दो दिन की ज़िंदगी का मज़ा हम से पूछिए

की भूले हैं रफ्ता रफ्ता उन्हें मुदत्तों  में हम
किस्तों में ख़ुदकुशी का मज़ा हम से पूछिए

आगाज़-ए -आशिक़ी का मज़ा आप जानिये
अंज़ाम-ए-आशिक़ी का मज़ा हम से पूछिए

जलते दीयों में जलते घरों जैसी जौ  कहाँ
सरकार रौशनी का मज़ा हम से पूछिए

वो जान ही गए की हमें उनसे प्यार है
आँखों की मुखबिरी का मज़ा हम से पूछिए

की हसने का शौक़ हमको ही था आप की तरह
हंसिये मगर हसी का मज़ा हम से पूछिए

हम तौबा कर के मर गए बेमौत-ए-‘खुमार’
तौहीन-ए-मैकशी का मज़ा हम से पूछिए

Favorite Posts