वो छोड़ गया मुझे तनहा यादों में

वो छोड़ गया मुझे तनहा यादों में
जिसको हर दम माँगा फरियादों में
जो वादे सारे तोड़ गया
खंजर सा दिल में छोड़ गई
नफ़रत तुझसे भी ख़ूब हुई
और सच नफ़रत तुझसे यूँ करती हूँ
जिस राह में तेरा ज़िक्र हुआ
वो राह बदल मैं देती हूँ
फिर कान जो थोड़े खड़े हुए
सुन कर दुनिया की बातें
मैं कुछ - कुछ, कुछ - कुछ सहती हूँ
फिर दिल को संभाले कोने में
ख़ुद से ही यह कहती हूँ
कि जिस राह में तेरा ज़िक्र हुआ
वो राह बदल मैं देती हूँ

Favorite Posts